फरीदाबाद,

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानून वापिस लेने की घोषणा पर फरीदाबाद विधानसभा क्षेत्र के पूर्व कांग्रेस प्रत्याशी लखन कुमार सिंगला ने कहा कि यही सरकार इन काले कानूनों को लाई थी और अब झूठी वाहवाही लूटने के लिए इनको वापिस ले लिया।

उन्होंने कहा कि देश का अन्नदाता किसान पिछले एक साल से इन काले कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहा है और इस पूरे आंदोलन के दौरान करीब 700 से ज्यादा किसान शहीद हो गए, लेकिन सरकार की आंखें नहीं खुली। परंतु पिछले दिनों हिमाचल, राजस्थान, कर्नाटक और पश्चिम बंगाल में भाजपा की करारी हार के बाद सरकार की तानाशाही टूटी और उन्होंने उपचुनाव में हुई हार से घबराकर आनन फानन में यह तीनों कृषि कानून वापिस लेने की घोषणा कर दी।

लखन सिंगला ने कहा कि केवल कानून वापिस लेने से कुछ नहीं होगा, उन 700 परिवारों का क्या होगा, जिन्होंने इस संघर्ष में अपने परिजनों को खो दिया है। उन्होंने लोगों से आह्वान करते हुए कहा कि आने वाले समय में उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर, गोवा आदि राज्यों में विधानसभा चुनाव है इसलिए वहां की जनता भी किसानों के संघर्ष की तरह भाजपा को वोट की चोट से करार जवाब दें ताकि घमंडी भाजपा सरकार का घमंड पूरी तरह से टूट सके और देश में बढ़ रही महंगाई को रोका जा सके। अगर इन राज्यों में भाजपा की करारी हार हुई तो पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस, सरसों का तेल, दालें इन सभी की कीमतें सरकार स्थिर कर देगी इसलिए जनता को जागरूक होकर भाजपा को सबक सिखाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.