फरीदाबाद,
कोरोना का कहर थम सा गया है और अधिकांश लोगों में इसका डर भी समाप्त हो गया है, जिसके चलते ज्यादातर लोग बगैर फेस मास्क के नजर आ रहे हैं। दिल्ली – एनसीआर के लोगों को ऐसे में सतर्क हो जाने की जरूरत है, क्योंकि अब समय कोरोना से बचाव के लिए नहीं बल्कि लंग्स कैंसर से बचाव के लिए फेस मास्क लगाना जरूरी है। कैंसर विशेषज्ञ के अनुसार सिगरेट स्मोकिंग के अलावा सेकंड हैंड स्मोक जिसमें वायु प्रदूषण शामिल है, लंग्स कैंसर को जन्म दे सकता है।
दीपावली के अवसर पर से ही दिल्ली – एनसीआर में वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच जाता है। हमने गुरुवार को दीपावली के दिन से ही लगातार फरीदाबाद के प्रदूषण लेवल पर नजर बनाए रखी। सेंट्रल पलूशन कंट्रोल बोर्ड के ऐप के अनुसार गुरुवार दोपहर करीब 11 बजे पलवल में एयर क्वालिटी इंडेक्स पीएम 2.5 बढ़कर 201, फरीदाबाद में 375 और बल्लभगढ़ में 311 हो गया था। गुरुवार दोपहर करीब 3 बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स पीएम 2.5 बढ़कर बल्लभगढ़ में 319, फरीदाबाद में 393 और पलवल में 215 दर्ज किया गया। गुरुवार रात करीब 8 बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स पीएम 2.5 बढ़कर फरीदाबाद में 420, पलवल में 224 और बल्लभगढ़ में 346 दर्ज किया गया। शुक्रवार सुबह 9 बजे एयर क्वालिटी इंडेक्स पीएम 2.5 पलवल में 289, फरीदाबाद में 456, बल्लभगढ़ में 422 दर्ज किया गया। शुक्रवार शाम करीब पौने पांच बजे यह बल्लभगढ़ में 462, फरीदाबाद में 469 और पलवल 314 दर्ज किया गया। यह कहीं से भी सेहत के लिए अनुकूल नहीं है। फरीदाबाद सेक्टर 8 स्थित सर्वोदय अस्पताल के कैंसर विभाग के प्रमुख डॉक्टर सुमंत गुप्ता ने बताया कि लंग्स कैंसर का प्रमुख कारण सिगरेट स्मोकिंग है, लेकिन सेकंड हैंड स्मोक जिसमें वायु प्रदूषण भी शामिल है, इसका एक कारण है। ऐसे में जरूरी है कि घर से बाहर निकलते समय फेस मास्क का उपयोग किया जाए, जिससे हवा में मौजूद ऐसे किसी प्रकार का प्रदूषण हमारे लंग्स तक न पहुंच सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.