फरीदाबाद,

हर घर में इस्तेमाल होने वाली और जिसको अनेकों तरीकों से इस्तेमाल किया जाता है, सालाें बाद वह माचिस भी महंगाई का शिकार हो गई। कुछ दिनों बाद यह एक रुपये से बढ़कर दो रुपये की हो जाएगी। रॉ मैटेरियल के बढ़ते दामों को इसका मुख्य कारण माना जा रहा है। हालांकि राहत के तौर पर कुछ तिल्लियां माचिस में अतिरिक्त दी जाएंगी।
सालों से बढ़ रही महगांई की नजर अब तक माचिस पर नहीं पड़ी थी। अब यह भी इसकी चपेट में आ गई है। संभवत: राष्ट्र में शायद ही ऐसा कोई घर हो जहां माचिस का प्रयोग नहीं होता। बीड़ी – सिगरेट पीने वालों से लेकर, ढाबा हो या खाने – पीने का सामान बेचने वाली रेहड़ी से लेकर हर घर के मंदिर आदि में यह मौजूद होती है। हालात यह हो गए हैं कि महंगाई की चपेट में क्या नहीं आया, यह ढूंढने बैठें तो याद नहीं आता कि आखिर कहां पर आम आदमी को राहत मिल रही है। मीडिया रिपोर्टस् के अनुसार 1 दिसंबर से यह बढ़ी हुई कीमतें लागू हो जाएंगी। इस महंगाई से कहां पर और कब राहत मिलेगी, जनता यह उम्मीद लगाए बैठी है और आए दिन किसी न किसी चीज के दाम में वृद्धि की सूचना मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.