फरीदाबाद,   
पिछले लंबे समय से कोरोना से शहर में राहत थी, लेकिन जो पिछले साल हुआ, उससे हमने सबक नहीं लिया और लगभग वही गलतियां दोहरानी शुरू कर दीं, जिससे कोरोना एक बार फिर से जोर पकड़ता नजर आ रहा है। डीसी फरीदाबाद के अनुसार रविवार को जिले में 10 पॉजिटिव मामले सामने आए। राष्ट्र के अन्य कई राज्यों में भी कोरोना जोर पकड़ने लगा है। यहां तक कि कोरोना का नया अब तक का सबसे खतरनाक वेरिएंट AY.4.2 के भी कुछ केस मिले हैं। डेंगू का प्रकोप जारी है और प्राइवेट अस्पताल लगभग भरे हुए। ऐसे में यदि कोरोना केस बढ़े तो दूसरी लहर से ज्यादा हालात भयानक हो सकते हैं। ऐसा न हो, यह आपकी जागरूकता से ही हाे सकता है।
त्यौहारों के सीजन में लोग न केवल फरीदाबाद बल्कि हर जगह खूब लापरवाह नजर आए। त्यौहारों की शुरूआत नवरात्रों से हुई। भक्तों की भीड़ मंदिर में उमड़ी, कई मंदिरों ने अपने स्तर पर इंतजाम किए, लेकिन लोगों की भीड़ और उनकी लापरवाही के आगेे वह बौने नजर आए। माता के जगरातों और चौकियों में भी भक्तजन खूब जुटे। इसके बाद रामलीलाओं का मंचन शुरू हुआ, जहां पर उमड़ी भीड़ कोरोना से बेखौफ नजर आई। दशहरे के अवसर पर मेले भी लगे और दशहरे में भी उमड़ी भीड़ में न तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी, न चेहरे पर मास्क और हैंड सैनेटाइजर तो दूर की बात नजर आई। इन हालातों ने ही साफ संकेत दिया था कि कोरोना की संभावित लहर को हम खुद ही बुला रहे हैं। यह ठीक है किसी के वैक्सीनेशन की एक डोज लग चुकी है तो किसी को दोनों, उसके बावजूद डॉक्टरों का साफ कहना है कि कोरोना से बचने के लिए सारी सावधानियां बरतनी जरूरी हैं। अभी दीपावली की तैयारियों में बाजारों में भीड़ उमड़ रही है तो उसके बाद छठ पूजा में भीड़ उमड़ेगी। यही हालात पिछले साल हुए थे और दूसरी लहर ने जो तबाही मचाई थी उसे कोई भूला नहीं है। ऐसे में हमारे लिए सतर्क हो जाना जरूरी है। मेट्रो अस्पताल के सीनियर डॉक्टर नीरज जैन कहते हैं कि तीसरी लहर आएगी या नहीं, यह नहीं कहा जा सकता। आएगी तो किस रूप में आएगी, यह भी नहीं कहा जा सकता। ऐसे में तैयारी तो है, लेकिन लोगों को ही इसे फैलने से रोकना होगा।
डीसी फरीदाबाद जितेंद्र यादव के अनुसार कोरोना पोजिटिव का कोई केस अस्पताल में भर्ती नहीं है, जबकि होम आईसोलेशन पर जिला मे 16 लोगों को रखा गया है तथा एक्टिव केसों की संख्या भी 16 हो गई है। अब तक जिले में 922 लोगों के रिजल्ट आने बाकी है। इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए टीकाकरण जोर शोर से किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.