फरीदाबाद,
कोरोना की दूसरी लहर का कहर समाप्त सा होने के बाद जिले में अब डेंगू ने पांव पसारने शुरू कर दिए हैं, वहीं मलेरिया ने भी दस्तक दे दी है। इसको लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। ऐसे 3500 घरों को नोटिस जारी किए गए हैं, जिनके घरों में लारवा मिला है। इसी को लेकर डीसी जितेन्द्र यादव ने कहा कि बरसात के मौसम में मच्छरों से डेंगू व मलेरिया जैसी अनेकों बीमारियां फैलने का खतरा बना रहता है। ऐसे में नागरिकों को इन बिमारियों से बचने के लिए सचेत एवं जागरूक रहने की आवश्यकता है।डीसी जितेंद्र यादव ने नागरिकों से आग्रह करते हुए कहा कि वे स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें। अपने घरों के आसपास पानी जमा न होने दें। सभी गड्ढों को मिट्टी से भर दें और रुकी हुई नालियों को साफ रखें। डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं, इसलिए पानी की टंकी को अच्छी तरह बंद करके रखें। अपने घरों में सप्ताह में एक बार मच्छर नाशक दवाई का छिड़काव अवश्य करें। जिले में ब्रीडिंग चेकर, फील्ड वर्कर द्वारा घर-घर जाकर मलेरिया उन्मूलन संबंधि मच्छर के लारवा की ब्रीडिंग चेक की जा रही है और ब्रीडिंग पाए जाने पर तुरंत प्रभाव से टीमों द्वारा टेमिफोस की दवाई डलवाकर लारवा को नष्ट किया जा रहा है। उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि वे हर रविवार को सभी लोग ड्राइ डे (शुष्क दिवस) के रूप मे मनाएं, जिस दौरान घर के सभी कूलर व टंकियों को अच्छी तरह से कपड़े से रगड़कर साफ कर लें, फ्रिज की ट्रे का पानी जो बिजली जाने के बाद फ्रिज की बर्फ के पिघलने से ट्रे में एकत्रित होता है, उसको जरूर साफ करें।  क्योंकि फ्रिज की ट्रे के साफ पानी में डेंगू फैलाने वाले एडीज मच्छर की उत्पत्ति होती है।
 मलेरिया के नोडल अधिकारी डाँ रामभक्त ने बताया कि जिले में अब तक मलेरिया के 9 और डेंगू के 134 केस आए हैं। उन्होंने बताया कि एमसीएफ क्षेत्रों में पाए जाने वाले लार्वा प्रजनन के लिए लगभग 3500 घरों में जारी किए नोटिस और जुर्माना किया जा रहा है। और इसकी दैनिक रिपोर्टिंग तथा रिकार्डिंग भी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.