फरीदाबाद,

हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने युवाओं को वैश्विक मांग तथा स्थानीय जरूरतों के अनुरूप कौशल प्रदान करने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि विश्वविद्यालयों को औद्योगिक सहभागिता में कौशल आधारित छोटे-छोटे प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों को शुरू करने पर ध्यान देना होगा ताकि युवाओं के लिए रोजगार के ज्यादा से ज्यादा अवसर उपलब्ध हो सकें।

बंडारू दत्तात्रेय ने फरीदाबाद के जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए के तीसरे दीक्षांत समारोह को संबोधित किया।

इस अवसर पर कुलाधिपति ने प्रतिष्ठित रक्षा वैज्ञानिक डॉ जी सतीश रेड्डी तथा फरीदाबाद के सफल उद्यमी एवं विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नवीन सूद को उनकी विशिष्ट उपलब्धियों के लिए उपाधियां प्रदान की। 
दीक्षांत समारोह के दौरान वर्ष 2021 में उत्तीर्ण कुल पात्र 1210 में से 750 विद्यार्थियों एवं शोधार्थियों ने हिस्सा लिया, जिन्हें कुलाधिपति द्वारा उपाधियां प्रदान की गई। इनमें 672  स्नातक एवं 494 स्नातकोत्तर छात्र-छात्राएं तथा 44 शोधार्थी शामिल रहे। 
इस अवसर पर बड़खल की विधायक सीमा त्रिखा, तिगांव के विधायक राजेश नागर, विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय राज नेहरू, दीनबंधु छोटूराम विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. राजेंद्र कुमार अनायत, डॉ. डी.पी. भारद्वाज, कृष्ण सिंघल सहित जिला प्रशासन के कई अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.