एनआईटी,
विजय रामलीला कमेटी, मार्केट नंबर 1 में सोमवार देर रात तक चली रामलीला में राम नाम की धुन के आगे करोना का खौफ गायब सा दिखाई पड़ा। मंच पर माइक संभाले चेयरमैन सुनील कपूर ने कहा राम नाम की डोज मैं ला रहा हूं, वैक्सीन के दोनों डोज आप लाओ और मिलकर श्री राम का गुणगान करें। रामलीला के पहले दृश्य में श्री हरि विष्णु माता कौशल्या के स्वप्न में आते हैं और उन्हें विराट रूप में दर्शन देकर उनके गर्भ में स्थान मांगते दिखाई पड़े। कमेटी द्वारा तैयार किया भव्य विराट रूप का आकर्षण देखते बनता था। विष्णु की भूमिका में कमेटी के महा सचिव सौरभ और कौशल्या बने मनोज शर्मा ने मनभावने प्रदर्शन से उमड़े जन समुदाय का दिल जीत लिया। विष्णु ने माता कौशल्या से कहा “ले जन्म कोख से तेरी मैं दशरथ नंदन कहलाऊंगा, मिटा कर वंश असुरों का तेरी कीर्ति बढ़ाऊंगा”। इसी दृश्य के बाद भगवान राम सहित अन्य तीनों भाइयों के जन्म की खुशियाँ मनाई गयी, वहां दूसरी और रावण के असुरों ने ऋषि विश्वामित्र (वैभव लड़ोइया) को वन छोड़ने पर विवश कर दिया। विश्वामित्र ने दशरथ (तरुण भाटिया) के दरबार में जाकर राम और लक्ष्मण की मांग रखी जिसे पहले तो दशरथ ने पूरा करने से इंकार किया पर बाद में कुलगुरु वशिष्ठ (लखन वर्मा) के आग्रह पर राम लक्ष्मण दे दिए। वैभव का अभिनय विश्वामित्र के किरदार को बखूबी पूरा करता दिखा और फिर आया वो दृश्य जिसका दर्शकों को बेसब्री से इंतज़ार था – महा राक्षसी ताड़का का वध और उसपर पंजाबी भाषा में किया गया स्यापा। पंडित रघुनाथ शर्मा के गुदगुदाते टप्पों से मैदान में मौजूद हर दर्शक हसी से लोट पोट होता रहा। अंत में राम लक्ष्मण व सीता बड़े होते दिखाई दिए। सीता ने धनुष उठाया और राजा जनक ने स्वयंवर का एलान किया। मंगलवार को मंच पर सीता स्वयंवर का आयोजन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.