रुपये के लेनदेन को लेकर गोली मारकर की थी हत्या

पलवल,

रुपयों के लेन-देन में सगे भाई की गोली मारकर की गई हत्या की वारदात को सीआईए पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने दो भाईयों को गिरफ्तार किया है, जिनसे एक सेंट्रो कार को बरामद किया गया है। फिलहाल आरोपियों को दो दिन के पुलिस रिमांड पर लिया हुआ है।
सीआईए इंचार्ज अशोक कुमार ने बताया कि चार सितंबर को कैंप थाना पुलिस द्वारा आदर्श कालोनी निवासी लोकेश उर्फ लक्की के लापता होने का मामला दर्ज किया गया था। उसी दिन लोकेश का शव हसनपुर थाना क्षेत्र से गुजर रही शेख साई (आगरा कैनाल) नहर से बरामद किया गया। शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के बाद परिजनों के हवाले कर दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि लोकेश उर्फ लक्की को गोली लगी हुई है, जिसके बाद कैंप थाना पुलिस द्वारा मामले में धारा 302 लगाई गई और मामले की जांच सीआईए पुलिस को दी गई। जांच के दौरान मृतक लोकेश के भाई सुरेंद्र व हरेंद्र के बयान अलग-अलग पाए गए। पुलिस ने जब सुरेंद्र व हरेंद्र से गहनता से पूछताछ की तो सुरेंद्र ने बताया कि भाई लोकेश के उस पर 25 हजार रुपये उधार थे। 31 अगस्त को लोकेश अपने रुपयों को मांगने लगा। सुरेंद्र ने रुपये देने से मना किया तो लोकेश ने उस पर कट्टा तान दिया। इसी दौरान सुरेंद्र ने कट्टा छीनकर लोकेश के सिर में गोली मार दी। गोली चलने की आवाज सुनकर दुसरा भाई हरेंद्र बाहर आया। जिसके बाद दोनों भाईयों ने लोकेश के शव को सेंट्रो कार में रख छज्जूनगर नहर में फेंक दिया। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से सेंट्रो कार को बरामद कर लिया है। फिलहाल दोनों आरोपियों को अदालत में पेश कर दो दिन के रिमांड पर लिया हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.