फरीदाबाद,
डीसी जितेंद्र यादव ने बताया कि कहा कि हरियाणा सरकार  द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार जिले के सभी गांव में अभी तक खेती की भूमि का मैपिंग कार्य आनलाइन किया जा रहा है। अबतक 64.28 प्रतिशत कार्य पूरा कर लिया गया है। उनको फरीदाबाद की खेती भूमि वास्तविक स्थिति बारे सरकार को अवगत करवाना है। मैपिंग के बाद पता चल जाएगा कि किस फसल काे कितनी भूमि में बोया गया है, उसके हिसाब से मंडियों की व्यवस्था की जाएगी।
उन्होंने बताया कि जिले में 192 गांव है। इनमें 83226.70 एकड़ कृषि भूमि है। जिले में 100 प्रतिशत खेती योग्य भूमि की मैपिंग का कार्य उप कृषि निदेशक, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी, जिला विपणन कार्यकारी अधिकारी, जिला राजस्व अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी, तहसीलदारव नायब तहसीलदार के फील्ड स्टाफ द्वारा किया जाना है। कृषि विभाग के फील्ड अधिकारी, पटवारी व नम्बरदारों के साथ मिलकर प्रत्येक गांव के किस एकड़ में क्या-क्या फसल बिजाई गई है। उसकी जानकारी intra.ahtihhryana.gov.in पर जाकर एंट्री कर रहे है। वे समयबद्ध कार्य को पूर्ण रूप से करें। आपस में तालमेल रखते हुए कार्य करें। इस कार्य की अन्तिम तिथि आगामी 31अगस्त है।डीसी जितेंद्र कुमार ने बताया कि जिला खेती योग्य भूमि मैपिंग से ही यह वास्तविक जानकारी प्राप्त होगी कि किस फसल का कितना-कितना रकबा है। उसी हिसाब से मंडियों की व्यवस्था की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.