गुरुग्राम जून के महीने में थाना सेक्टर-37, गुरुग्राम में लीला राम निवासी ग्राम मौहम्मदपुर झाड़सा ने शिकायत के माध्यम से बतलाया कि यह एक किसान है और खेती बाड़ी का कार्य करता है। इसकी जमीन एक्वायर होने पर इसको मुआवाजा मिला था यह मुआवजा इसके बैंक खाओ में आया था। इसके बैंक खाते में मुआवजे के लगभग 1 करोड़ 65 लाख 00,000 रुपये आए थे। इसके बैंक  खाते से किसी अनजान व्यक्ति ने धोखाधड़ी करके लगभग 1 करोड़ 37 लाख 46 हजार 308 रुपए निकल लिए। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

कर्ण गोयल, ACP DLF के नेतृत्व में SHO थाना साईबर, SHO थाना सेक्टर-37, CIA सेक्टर-31 व EOW गुरुग्राम की पुलिस टीमों की एक SIT गठित की गई। गठित की गई SIT को इस मामले में आरोपी को अपने गुप्त सूत्रों के हवाले से धरदबोचा। पुलिस के अनुसार आरोपी की पहचान प्रवीन मित्तल निवासी सोनीपत के रूप में हुई। प्रारंभिक पुलिस पूछताछ में ज्ञात हुआ कि यह बी.कॉम तक पढा हुआ है और यह सरकारी बैंक में लोन दिलाने का काम करता है। आरोपी ने बताया वह बैंक में कार्य करता है और इसी दौरान यह लोगों के बैंक खातों की जानकारी चोरी कर लेते और उसके बाद ये बैंक खातों में रजिस्टर्ड मोबाईल नंबर की जगह बैंक में रिक्वेस्ट देकर अपने मोबाईल नंबर अपडेट करा लेता और उसके बाद नेटबैंकिंग से यह उस बैंक खाते से जूलरी व अन्य कीमती समान खरीद लेता था। आरोपी ने इसी प्रकार पलवल में 01, सांपला में 01, बल्लभगढ़ में 01 व गुरुग्राम में 03 वारदातों सहित कुल 06 वारदातों को अंजाम देने का खुलासा किया। आरोपी की गिरफ्तारी पर गुरुग्राम पुलिस द्वारा 05 लाख रुपयों का ईनाम भी घोषित किया हुआ था।  रोपी को अदालत में पेश कर 4 दिन का पुलिस रिमांड मांगा गया जो मंजूर कर लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.