फरीदाबाद।
मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी डाॅ रणदीप पूनिया ने बताया कि जिले में स्वास्थ्य विभाग 11 जुलाई से आगामी 24 जुलाई तक जनसंख्या नियंत्रण पखवाड़े का आयोजन कर रहा है। जिसमे आम-जन को बढ़ती जनसंख्या के दुष्प्रभाव और नियंत्रण के उपायों के बारे में जागरूक कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जनसंख्या को नियंत्रित करने का कार्य केवल सरकार का ही नहीं है, बल्कि हम सबकी भागीदारी जरूरी है। उन्होंने कहा कि युवा दंपत्ति यदि जिम्मेदारी से परिवार को नियोजित करें तो जनसंख्या वृद्धि पर लगाम संभव है। जनसंख्या नियंत्रण जागरुकता पखवाड़े के नोडल अधिकारी डाॅ हरीश कुमार आर्य ने जानकारी देते हुए बताया कि सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार स्वास्थ्य विभाग द्वारा पुरुष नसबंदी अपनाने पर 2000 रुपये की धनराशि प्रसवोपरांत नलबंदी पर 2200 रुपये की धनराशि, महिला नलबंदी पर 1400 रुपये की धनराशि, अंतरा इन्जेक्शन लगवाने पर 100 रुपये, गर्भपात व प्रसव उपरांत कापर-टी लगवाने पर सरकार 300 रुपये की धनराशि प्रोत्साहन राशि भी देती है। साथ ही घर से लाने-ले जाने की एंबुलेंस सुविधा भी उपलब्ध है। इसके लिए नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क किया जा सकता है।
डाॅ हरीश आर्य ने बताया कि साल 1950 में दुनिया की आबादी लगभग ढाई अरब थी। जो 70 सालों बाद आज लगभग 7.5 अरब है। जो कि 300 प्रतिशत की बढ़ोतरी है। इसी अंतराल में भारत की आबादी लगभग 35 करोड़ से बढ़ कर 135 करोड़ हो गई है जो की लगभग 400 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि फरीदाबाद जिले की आबादी भी मात्र 30 वर्ष में दोगुनी हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.